झारखण्ड

पहली बारिश में ही टूट गया लाइफ-लाइन, ठप हो गया राहगीरों का आवागमन

पहली बारिश में ही टूट गया लाइफ-लाइन, ठप हो गया राहगीरों का आवागमन

चतरा: देश भर के कई हिस्सों में आई मूसलाधार बारिश ने अभी अपनी झलक ही दिखाई कि कई जगहों पर इसका कहर भी देखने को मिलने लगा. कहीं फसल खराब हो गई तो कहीं जलजमाव होने लगा है. वहीं झारखंड के चतरा के टंडवा प्रखण्ड का लाइफ-लाइन माने जाने वाली गेरुआ नदी पर बना पुल मूसलाधार बारिश की वजह से टूट कर बह गया है.

भारी बारिश के बाद सुबह एक मोटरसाइकिल सवार पुल पार करते-करते बाल-बाल बचा. ऐन मौके पर ही पुल टूट कर बिखर गया. अब पुल टूटने से आवागमन पूरी तरह से ठप हो गया है. राहगीर वाहनों से लेकर एंबुलेंस तक को इस लाइफ-लाइन के टूट जाने की वजह से मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है.

यह पुल उस क्षेत्र के प्रमुख मार्ग को जाने का आम रास्ता था. खासकर चतरा जिला मुख्यालय जाने वाले वाहनों व राहगीरों को इससे खासा परेशानी होने वाली है. गेरुआ नदी पुल को लेकर आजसू के नेता कई बार जिला प्रशासन को लिखित रूप से आवेदन दे कर इसकी मरम्मती की मांग कर चुके हैं, लेकिन किसी ने नहीं सुनी.

इस पुल से जिला के कई आला अधिकारियों का भी प्रत्येक दिन आना-जाना होता है. अफसोस की बात यह है कि किसी ने पुल पर हुए गढ्ढे पर विशेष ध्यान नहीं दिया. गेरुआ पुल चतरा, हजारीबाग, कोडरमा और बिहार राज्य की जोड़ने वाली एक मात्र पुल है.

गेरुआ पुल से प्रत्येक दिन सीसीएल के आम्रपाली, मगध, अशोका, पिपरवार कोलवारी से कोल वाहनों एनटीपीसी के भारी वाहनों का आना जाना होता है. जानकारी के अनुसार पांच साल पहले पुल का मरम्मत करोड़ों रुपए की लागत से किया गया था.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close
%d bloggers like this: