बिहार

त्रिस्तरीय पंचायत जनप्रतिनिधियों को भी प्रतिष्ठा अनुरूप पेंशन व वेतन मिले : शिवचन्द्र प्रसाद यादव

त्रिस्तरीय पंचायत जनप्रतिनिधियों को भी प्रतिष्ठा अनुरूप पेंशन व वेतन मिले : शिवचन्द्र प्रसाद यादव

त्रिस्तरीय पंचायत जनप्रतिनिधियों को भी प्रतिष्ठा अनुरूप पेंशन व वेतन मिले : शिवचन्द्र प्रसाद यादव

समस्तीपुर जिला के हसनपुर प्रखण्ड के मरांची उजागर पंचायत के पूर्व मुखिया सह हसनपुर राजद के प्रखण्ड कार्यकारी अध्यक्ष शिवचन्द प्रसाद यादव ने त्रि-स्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों को भी सांसद , विधायक की तर्ज पर वेतन , पेंशन तथा अन्य सुविधा देने के लिए पंचायती राज सरकार से मांग किया है । पूर्व मुखिया शिवचन्द्र प्रसाद यादव ने कहा कि ग्राम पंचायत के त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधि भी जनता द्वारा चुने हुए जनप्रतिनिधि हैं । पंचायत प्रतिनिधि वार्ड स्तर से ही सीधे जनता से जुड़े रहते हैं । उन्होंने कहा पंचायत प्रतिनिधि अपने कार्यकाल आरम्भ होने से लेकर वे कार्यकाल के समाप्त होने तक जनता के सेवा में लगे रहते हैं । हसनपुर राजद प्रखण्ड अध्यक्ष शिवचंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि पंचायती राज सरकार ने वर्ष 2013 में जनप्रतिनिधियों को 500 एवं 1250 , 2500 का भत्ता तय किया है जो पंचायती राज सरकार के सबसे निचले पायदान के जनप्रतिनिधियों के साथ मजाक है । इस भत्ता के लिए भी पंचायत जनप्रतिनिधियों को दो-दो साल तक इंतजार करना पड़ता है । पूर्व मुखिया श्री शिवचन्द्र प्रसाद यादव ने कहा है कि लोकसभा सदस्य , विधानसभा सदस्य , राजसभा सदस्यों को अत्याधिक वेतन , आजीवन पेंशन , चिकित्सा सुविधाएं दी जाती है लेकिन लोकतंत्र के सबसे मजबूत स्तंभ पंचायती राज के जनप्रतिनिधियों को हास्यास्पद भत्ता दिया जाता है । मुखिया को भत्ता के रूप में मात्र ढाई हजार रुपए , उप मुखिया को 1250 रुपए तथा वार्ड सदस्य को मात्र 500 रुपए दिया जाता है यह अपने आप में अशोभनीय एवं अमर्यादित लगता है । उन्होंने पंचायती राज सरकार का ध्यान आकृष्ट कराते हुए कहा है कि मुखिया व सरपंच को 25 हजार उप मुखिया व उपसरपंच को 12500 एवं पंच व वार्ड सदस्य को 10000 रूपए प्रतिमाह वेतन देने तथा आजीवन पेंशन देने की मांग पंचायती राज सरकार से की है ।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close