UNCATEGORIZED

अवार्ड विनिंग लेखक और फिल्म निर्देशक विपिन अग्निहोत्री ने बच्चों के साथ अंतरराष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया

अवार्ड विनिंग लेखक और फिल्म निर्देशक विपिन अग्निहोत्री ने बच्चों के साथ अंतरराष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया

अवार्ड विनिंग लेखक और फिल्म निर्देशक विपिन अग्निहोत्री ने बच्चों के साथ अंतरराष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया

अवार्ड विनिंग लेखक और फिल्म निर्देशक विपिन अग्निहोत्री ने बच्चों के साथ अंतरराष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया । इस दौरान बच्चों ने फैमिली ट्री को सजाकर अपनी प्रतिभा का बेहतर प्रदर्शन किया।

इस दौरान विद्यार्थियों ने अपने-अपने परिवार की बनाई तस्वीरें साझा की तथा अपने-अपने विचार सुंदर ढंग से व्यक्त किए। विपिन अग्निहोत्री ने बच्चों को संबोधित करते कहा कि परिवार होना हर मनुष्य के लिए बेहद जरूरी है। एक बच्चा परिवार में रहकर ही अच्छी आदतें ग्रहण करता है। हमें परिवार के हर सदस्य के साथ मिलजुल कर रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज की भाग दौड़ भरी जिदगी में परिवार की अहमियत और भी बढ़ जाती है। समाज की परिकल्पना परिवार के बिना अधूरी है, ऐसे में परिवार लोगो को एक दूसरे के साथ जोड़े रखता है। हमारी भारतीय सभ्यता और संस्कृति तो हमें वसुधैव कुटुंबकम अर्थात पूरी धरती हमारा परिवार है कि नियम पर चलना सिखाती है। इस प्रकार यदि हम आपसी सामंजस्य के साथ आपस में मिलजुल कर परिवार में रहेंगे तो पूरी दुनिया में शांति का संदेश देने में सफल हो सकते हैं।

समाज सेविका स्मृति भल्ला ने बच्चों को संबोधित करते कहा कि हमेशा परिवार सब से बढ़कर होता है। उन्होंने कहा कि हर साल 15 मई को अंतरराष्ट्रीय परिवार दिवस मनाया जाता है। उन्होंने बताया कि इंसान कितनी भी तरक्की कर ले, बड़ी से बड़ी सफलता हासिल कर ले, लेकिन परिवार के बिना सब कुछ अधूरा है। पहले लोग संयुक्त परिवार में रहा करते थे। फिर धीरे-धीरे काम की तलाश में तथा कोई नौकरी के लिए अपनों से दूर होते गए। लेकिन परिवार के बिना इंसान आज बिल्कुल अधूरा है। फिलहाल पूरी दुनिया जिस दौर से गुजर रही है ऐसे में परिवार की अहमियत और भी बढ़ जाती है। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति के जीवन में उसके परिवार का अत्यधिक महत्व होता है। वो एक परिवार ही तो है जो हमेशा हमारे दुख-सुख में हमारे साथ खड़ा रहता है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close