Follow Us

बिहार मे पंचायत शिक्षक को स्थानीय रहने पर बच्चों का पढ़ाई बाधित हो रहा है

बिहार मे पंचायत शिक्षक को स्थानीय रहने पर बच्चों का पढ़ाई बाधित हो रहा है

बिहार मे पूर्व मे शिक्षा मित्र पंचायत शिक्षक और प्रखंड शिक्षक का नियोजन किया गया जो कई वर्षो लगभग बीस बर्षो से एक ही जगह एक ही विद्यालय मे पद स्थापित है वो भी अपनें गांव पंचायत या प्रखंड मे। साथ ही कई शिक्षक तो प्रधानाध्यापक भी बने हुए है जिस कारण लोकल होने पर विद्यालय मे पठन पाठन मध्यान भोजन कार्य बाधित होता है। चुकी बच्चे और उसके माता पिता भी खुलकर शिकायत नहीं कर पाते है। बिहार के शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव के के पाठक जी को इस बातो पर भी ध्यान देना चाहिए तब विद्यालय मे गुणवतापूर्ण शिक्षा मिल सकता है बाहरी शिक्षकों मे थोड़ा विशेष जबाबदेहि रहता है। शिक्षकों के स्थानांतरण के बिना कार्य सुचारु ढंग से नहीं चल सकता है। स्थानीय होने पर शिक्षकों का पकर भी जन प्रतिनिधि से लेकर स्थानीय पदाधिकारी पर रहता है।। इसलिय शिक्षकों द्वारा अनिमितता करने या लापरवाही बरतने पर पंचायत स्तर के मुखिया हो या प्रखंड स्तरीय अधिकारी हो सबके सब नजर अंदाज किया करते है। जिस कोप भाजन स्कूली बच्चे को बनना पड़ता है

pnews
Author: pnews

Leave a Comment