Follow Us

पोस्टमार्टम हाउस में महिला की लाश को कुतर गए चूहे

पोस्टमार्टम हाउस में महिला की लाश को कुतर गए चूहे

उत्तर प्रदेश के ललितपुर में पुलिस का अमानवीय चेहरा सामने आया है. शव के साथ लापरवाही के मामले ने पूरे पुलिस महकमे की कार्य प्रणाली पर सवालिया निशान लगा दिया है. कानून की किताब में शव को हैंडल करने की गाइडलाइंस दर्ज हैं. इसमें साफ-साफ लिखा है कि शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराने की प्रक्रिया कम से कम पुलिस उप निरीक्षक यानी सब इंस्पेक्टर के नेतृत्व और मौजूदगी में होनी चाहिए. लेकिन ललितपुर पुलिस के पास न तो संवेदना है न ही उसने कानून को फॉलो किया. यह मामला 21 साल की लड़की के आत्महत्या से जुड़ा हुआ है.

ललितपुर के मैलार में रहने वाली 21 साल की अनुभा यादव ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. आरोप है कि सुसरालियों की प्रताड़ना से आजिज आकर अनुभा ने आत्महत्या का खौफनाक कदम उठाया. पीड़ित पक्ष की शिकायत पर पुलिस एक्टिव तो हुई लेकिन मामले की गंभीरता को नहीं समझी. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हाउस में रखवाया. लेकिन शव को सील कराने की जहमत नहीं उठाई.

शव को कुतर गए चूहे

अगले दिन पोस्टमार्टम से पहले जब परिजनों ने अनुभा के शव को देखा तो उनके होश उड़ गए. महिला के शव पर चूहों के कुतरने के निशान थे. परिजनों ने पुलिस की कार्य प्रणाली पर सवाल उठाते हुए लापरवाही का आरोप लगाया. शिकायत पर सीएमओ ने कहा कि पुलिस ने रात करीब 11 बजे शव को बिना सील किये शवगृह में रखवा दिया. इसी दौरान शव के चेहरे को चूहों ने कुतर दिया. तीन दिसंबर को पोस्टमार्टम से पहले परिवार के सदस्यों, पुलिस और अस्पताल के कर्मचारियों ने शव पर काटने के निशान देखे थे. इसके बाद मृतक की मां ने शव को संभालने में लापरवाही का आरोप लगाते हुए सीएमओ को शिकायत दर्ज कराई.

महिला ने किया सुसाइड

उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले के शवगृह में रखे एक महिला के शव को चूहों द्वारा कुतरने के मामले में मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) ने तीन सदस्यीय जांच समिति गठित की है. जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ इम्तियाज अहमद ने बुधवार को बताया कि सदर कोतवाली क्षेत्र के गांव मैलार की महिला अनुभा यादव (21) ने दो दिसंबर को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. उन्होंने बताया कि परिजनों की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी (एसीएमओ) डॉ वीरेंद्र सिंह की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय जांच समिति गठित की गई, जो एक सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट सौंपेगी.

डॉक्टरों की टीम करेगी जांच

इस जांच समिति में दो चिकित्सा अधिकारी डॉ आशीष अग्निहोत्री और डॉ आर.एन. सोनी शामिल किए गए हैं. स्थानीय पुलिस के मुताबिक, महिला ने अपने ससुराल में आत्महत्या कर ली थी. पुलिस ने बताया कि परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने महिला के पति और अन्य ससुराल वालों के खिलाफ दहेज हत्या की धारा में प्राथमिकी दर्ज की गई है और मामले की जांच की जा रही है.

pnews
Author: pnews

Leave a Comment