Follow Us

एक शिक्षक ने दी KK पाठक को चुनौती

एक शिक्षक ने दी KK पाठक को चुनौती

बिहार में शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक  को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में शिक्षा विभाग से संबंधित किसी भी तरह के निर्णय लेने की छूट दे दी है. उसके पास किसी भी शिक्षक और प्रधानाध्यापक को निलंबित या बर्खास्त करने, उनका वेतन रोकने, स्कूलों के लिए फंड की सिफारिश करने, स्कूल की छुट्टियों और नियमों को बदलने और शिक्षकों के ट्रांसफर-पोस्टिंग पर प्रतिबंध लगाने पावर है. वहीं, अब राज्य में शिक्षा व्यवस्था में सुधार को लेकर केके पाठक  और शिक्षक संघ के बीच एक तरह से घमासान छिड़ गया है. इस बीच एक टीचर  ने केके पाठक  को चुनौती दी है. आइए जानते हैं पूरा मामला क्या है.

दरअसल, केके पाठक  ने राज्य में शिक्षकों के लिए कई आदेश निकाल चुके हैं. अब केके पाठक  के कुछ आदेश को बिहार के शिक्षक मानने को तैयार नहीं दिखाई दे रहे हैं. टीचर्स का मानना है कि केके पाठक  के आदेश मौलिक आधिकार का हनन है. यहां आपको यह जानना चाहिए कि केके पाठक  ने क्या पत्र जारी किया था. बिहार शिक्षा विभाग ने एक पत्र जारी किया था. इस पत्र में कहा गया था कि शिक्षक सोशल मीडिया से दूरी बनाकर रखें. अब केके पाठक के इस आदेश को लेकर एक टीचर (Amit Vikram) ने शालीनता के साथ विरोध जताया है. साथ ही केके पाठक को इशारों ही इशारों में चुनौती दी है. टीईटी संघ के अध्यक्ष शिक्षक अमित विक्रम ने केके पाठक ने जवाब दिया है. टीईटी शिक्षक संघ के अध्यक्ष अमित विक्रम ने इस पत्र का जवाब देते हुए लिखा- ‘बिहार में शिक्षकों को भी देश के आम नागरिकों की तरह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता प्राप्त थी, लेकिन आपके तरफ से जारी पत्र में यह जिक्र किया गया है कि शिक्षा विभाग के पत्र से ऐसा मालूम होता है कि बिहार में शिक्षकों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और अन्य मौलिक अधिकारों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.’ इतना ही नहीं आगे शिक्षक (Amit Vikram) ने शिक्षा विभाग को हाईकोर्ट जाने का भी इशारों में लिख दी

बता दें कि अमित विक्रम  शिक्षकों की मांग को सोशल मीडिया के जरिए उठाते रहते हैं. मगर अब शिक्षा विभाग ने एक लेटर के जरिए ये कहा है कि कोई भी शिक्षक न तो किसी संघ से जुड़ेगा और न ही सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, यूट्यूब या ट्विटर पर शिक्षा विभाग से जुड़ी बातें लिखेगा. टीईटी संघ के अध्यक्ष अमित विक्रम को इसीलिए एक पत्र भेजा गया था. इस पर शिक्षक अमित विक्रम ने जवाब दिया.

pnews
Author: pnews

Leave a Comment