Follow Us

डॉक्टर ही बन गए हैवान, लाश से चुरा ली आंख

डॉक्टर ही बन गए हैवान, लाश से चुरा ली आंख

उत्तर प्रदेश के बदायूं में एक चौंका देने वाली घटना सामने आई है. सिविल लाइंस क्षेत्र में एक विवाहिता के शव के पोस्टमार्टम को लेकर जमकर हंगामा हुआ. मृत महिला के शव की आंख गायब थी. परिजनों की शिकायत के बाद आरोपी डॉक्टरों को गिरफ्तार कर लिया गया. दोष साबित होने पर दोनों को जेल भी भेज दिया गया.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि अलापुर थाना इलाके के गांव कुतरई निवासी गंगा चरण की बेटी पूजा (20) का शव मुजरिया थाना इलाके के रसूला गांव में स्थित उसकी ससुराल में गत रविवार को फांसी से लटकता पाया गया था. पूजा के मायके के लोगों ने दहेज की मांग पूरी नहीं होने के कारण उसकी हत्या किये जाने का आरोप लगाया था. उन्होंने बताया कि पुलिस ने सोमवार को पूजा के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा था. पोस्टमार्टम के बाद शव को काले बैग में रखकर परिजनों को दे दिया गया था. आरोप है कि सोमवार शाम जब परिजनों ने बैग खोलकर शव को देखा तो उसकी दोनों आंखे गायब थीं. आक्रोशित परिजनों ने पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों पर आंखे निकालने का आरोप लगाया था.

आरोपी डॉक्टर गिरफ्तार

इस मामले में पूजा के शव का पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों आरिफ और ओवैस के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था और जिलाधिकारी मनोज कुमार ने मामले की जांच के लिये अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) वी के सिंह, पुलिस क्षेत्राधिकारी (नगर) आलोक मिश्रा और मुख्य चिकित्साधिकारी डाक्टर प्रदीप वार्ष्णेय की संयुक्त टीम गठित की थी. इस टीम ने आज रिपोर्ट पेश की, जिसके बाद दोनों आरोपी डॉक्टरों को गिरफ्तार कर लिया गया.

दोनों डॉक्टरों को जेल भेजा गया

थाना सिविल लाइंस के प्रभारी निरीक्षक गौरव विश्नोई ने बताया कि प्रारंभिक जांच के दौरान दोषी पाए गए डॉक्टर आरिफ और डॉक्टर ओवैस को बुधवार को जिलाधिकारी आवास मार्ग के निकट स्थित चौराहे के पास से गिरफ्तार कर लिया गया और मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया गया. न्यायाधीश मोहम्मद साजिद के आदेश पर दोनों डॉक्टरों को जिला कारागार भेज दिया गया है. विश्नोई ने बताया कि इस मामले में अग्रिम विवेचना जारी है. पोस्टमार्टम करने वाले कुछ और मेडिकल स्टाफकर्मियों की भी संलिप्तता पाई गई है. उनके खिलाफ भी गिरफ्तारी की कार्रवाई जल्द की जाएगी.

pnews
Author: pnews

Leave a Comment