Follow Us

पाकिस्तानियों को अब ऑमलेट भी नसीब नहीं, 400 रुपए में मिल रहे सिर्फ 12 अंडे

पाकिस्तानियों को अब ऑमलेट भी नसीब नहीं, 400 रुपए में मिल रहे सिर्फ 12 अंडे

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में चुनाव होने वाले हैं और उससे ठीक पहले जनता पर महंगाई की मार पड़ती हुई दिख रही है। पाकिस्तान में अंडों के दाम ने लोगों को परेशान कर दिया है। ARY न्यूज के मुताबिक रविवार को सूत्रों ने बताया कि अंडों की कीमत पाकिस्तानी पंजाब राज्य की राजधानी लाहौर में 400 पाकिस्तानी रुपए प्रति दर्जन तक पहुंच गए है। भारतीय मुद्रा में यह लगभग 120 रुपए हुए। इसके पीछे का बड़ा कारण यह है कि स्थानीय प्रशासन सरकारी रेट लिस्ट को लागू करने में नाकाम रहा है।

ज्यादातर सामान का दाम पाकिस्तान में आसमान छू रहा है। प्याज भी उनमें से एक है। रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार की ओर से प्याज का दाम 175 पाकिस्तानी रुपए प्रति किलोग्राम निर्धारित किया गया है। लेकिन यहां प्याज 230 से 250 पाकिस्तानी रुपएप्रतिकिग्रा के बीच बेचा जा रहा है। लाहौर में एक दर्जन अंडे की कीमत 400 रुपए तक पहुंच गई। वहीं चिकन का दाम 615 पाकिस्तानी रुपए प्रति किग्रा हो चुका है।
आर्थिक समन्वय समिति ने पिछले महीने राष्ट्रीय मूल्य निगरानी समिति को दामों में स्थिरता बनाए रखने और मुनाफाखोरी को रोकने के उपायों के लिए राज्य सरकारों के साथ नियमित कोऑर्डिनेशन जारी रखने का निर्देश दिया था। ARY न्यूज ने वित्त मंत्रालय की ओर से जारी बयान का हवाला देते हुए कहा कि कैबिनेट समिति की बैठक की अध्यक्षता वित्त, राजस्व और आर्थिक मामलों के कार्यवाहक केंद्रीय मंत्री शमशाद अख्तर ने की।
एआरवाई न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान का कर्ज भी बढ़ा है। वित्तीय वर्ष 2023-24 में पिछले साल नवंबर के अंत तक पाकिस्तान पर कुल कर्ज का बोझ बढ़कर 63,399 ट्रिलियन पाकिस्तानी रुपए हो गया। पीडीएम और कार्यवाहक सरकार के कार्यकाल के दौरान पाकिस्तान का कुल कर्ज 12.430 ट्रिलियन पाकिस्तानी रुपए से ज्यादा बढ़ गया। कुल ऋण बोझ बढ़कर 63.390 ट्रिलियन पाकिस्तानी रुपए हो गया, जिसमें घरेलू ऋण 40.956 ट्रिलियन पाकिस्तानी रुपए और अंतर्राष्ट्रीय ऋण 22.43 ट्रिलियन पीकेआर शामिल है। हाल ही में वर्ल्ड बैंक की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान का आर्थिक विकास एलीट क्लास तक ही सीमित है, जिसके परिणामस्वरूप पाकिस्तान में आर्थिक संकट दिख रहा है और यह अपने साथी देशों से पिछड़ गया है।

 

 

pnews
Author: pnews

Leave a Comment