Follow Us

PM मोदी ने रामलला से क्यों मांगी माफी? प्राण-प्रतिष्ठा के बाद कहा- प्रभु क्षमा करें

PM मोदी ने रामलला से क्यों मांगी माफी? प्राण-प्रतिष्ठा के बाद कहा- प्रभु क्षमा करें

आखिर वह दिन आ गया जिसके लिए राम के करोड़ों भक्त पलकें बिछाए हुए थे. अयोध्या में राम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हो चुकी है. प्राण-प्रतिष्ठा के बाद पीएम मोदी ने संबोधन दिया, वे कुछ भावुक भी नजर आए. पीएम ने रामलला के नवीन विग्रह की प्राण-प्रतिष्ठा के बाद अपने संबोधन की शुरुआत ‘सियावर रामचंद्र की जय’ से की. उन्होंने इस दौरान रामलला से माफी भी मांगी है. पीएम ने कहा कि हमारी कई पीढ़ियों ने वियोग सहा है. मैं आज प्रभु श्री राम से क्षमा याचना भी करता हूं. हमारे पुरुषार्थ, त्याग, तपस्या में कुछ तो कमी रह गई होगी कि हम इतनी सदियों तक यह कार्य कर नहीं पाए. आज वह कमी पूरी हुई है. मुझे विश्वास है कि प्रभु श्री राम आज हमें अवश्य क्षमा करेंगे.

असल में पीएम मोदी ने प्रभु से इसलिए ,माफी मांगी क्योंकि मंदिर बनने में इतना समय लग गया. पीएम ने कहा कि राम लला टेंट में नहीं, अब भव्य मंदिर में रहेंगे. आज हमें सदियों के उस धैर्य की धरोहर मिली है, आज हमें राम का मंदिर मिला है मेरा पक्का विश्वास है कि जो घटित हुआ है उसकी अनुभूति देश और दुनिया के कोने-कोने में रामभक्तों को हो रही होगी. यह क्षण अलौकिक है. इस शुभ घड़ी की आप सभी और समस्त देशवासियों को बहुत-बहुत बधाई. मैं अभी गर्भगृह में ऐश्वर्य चेतना का साक्षी बनकर आप सबके सामने उपस्थित हुआ हूं. कितना कुछ कहने को है लेकिन कंठ अवरुद्ध है.
कितना कुछ कहने को है लेकिन..
पीएम मोदी ने कहा कि इस शुभ घड़ी की आप सभी और समस्त देशवासियों को बहुत-बहुत बधाई. मैं अभी गर्भगृह में ऐश्वर्य चेतना का साक्षी बनकर आप सबके सामने उपस्थित हुआ हूं. कितना कुछ कहने को है लेकिन कंठ अवरुद्ध है. PM मोदी ने कहा कि उस कालखंड में तो वियोग सिर्फ 14 वर्षों का था. इस युग में तो अयोध्या और देशवासियों ने सैकड़ो वर्षों का वियोग सहा है. उन्होंने कहा कि लंबी प्रतीक्षा, धैर्य और सदियों के बलिदान के बाद हमारे राम आज आए हैं.

एक नए कालचक्र का उद्गम…
पीएम ने कहा कि 22 जनवरी 2024 का ये सूरज एक अद्भुत आभा लेकर आया है और ये कैलेंडर पर लिखी एक तारीख नहीं बल्कि एक नए कालचक्र का उद्गम है. उन्होंने कहा कि ये क्षण आलौकिक है, ये पल पवित्रतम है. राम मंदिर के भूमिपूजन के बाद से प्रतिदिन पूरे देश में उमंग और उत्साह बढ़ता ही जा रहा था और निर्माण कार्य देख देशवासियों में हर दिन एक नया विश्वास पैदा हो रहा था. उन्होंने कहा कि आज हमें सदियों के उस धैर्य की धरोहर मिली है. आज हमें श्रीराम का मंदिर मिला है. पूरा देश आज दीवाली मना रहा है. आज शाम घर-घर रामज्योति प्रज्ज्वलित करने की तैयारी है.

न्यायपालिका को भी धन्यवाद दिया
इसके अलावा पीएम मोदी ने शीर्ष संतों, नेताओं, उद्योगपतियों, फिल्मी सितारों, कवियों, साहित्यकारों और खिलाड़ियों की उपस्थिति में कहा कि यह राम का परम आशीर्वाद है कि हम इसके साक्षी बन रहे हैं. मोदी ने कहा कि भगवान राम देश के संविधान की पहली प्रति में निवास करते थे. संविधान के अस्तित्व में आने के बाद भी भगवान राम के अस्तित्व को लेकर दशकों तक कानूनी लड़ाई लड़ी गई. मैं न्यायपालिका को धन्यवाद देना चाहूंगा जिसने न्याय दिया और भगवान राम का मंदिर कानूनी तरीके से बनाया गया.

क्या बोले सीएम योगी: पीएम से पहले मंच से बोलते हुए जन्मभूमि शायद दुनिया में पहला ऐसा अनूठा मामला है, जिसमें किसी राष्ट्र के बहुसंख्यक समाज ने अपने ही देश में, अपने आराध्य की जन्मस्थली पर मंदिर निर्माण के लिए इतने साल और इतने स्तरों पर लड़ाई लड़ी हो.

निश्चिंत रहिए, अब कोई …
अपने संबोधन में सीएम योगी ने यह भी कहा कि निश्चिंत रहिए, अब कोई अयोध्या की परिक्रमा में कोई बाधा नहीं बन पाएगा. अयोध्या की गलियों में गोलियों की गड़गड़ाहट नहीं होगी. कर्फ्यू नहीं लगेगा. अब दीपोत्सव होगा. रामोत्सव होगा क्योंकि अयोध्या में रामलला का विराजना राम राज्य की स्थापना की उद्घोषणा भी है. उन्होंने कहा कि आज इस बात से आत्मा प्रफुल्लित है कि मंदिर वहीं बना है जहां बनाने का संकल्प लिया था.

pnews
Author: pnews

Leave a Comment