Follow Us

इस देश में नहीं बचा कोई भी ग्लेशियर, अब इन देशों पर मंडरा रहा है यह खतरा

इस देश में नहीं बचा कोई भी ग्लेशियर, अब इन देशों पर मंडरा रहा है यह खतरा

वैज्ञानिकों ने वेनेजुएला के आखिरी बचे ग्लेशियर के सिकुड़ने के बाद इसे फिर से बर्फ के मैदान के रूप में वर्गीकृत किया है. वेनेजुएला आधुनिक समय में अपने सभी ग्लेशियर खोने वाला पहला देश बन गया है.
1910 तक दक्षिण अमेरिकी राष्ट्र में छह ग्लेशियर थे. ये ग्लेशियर 1,000 वर्ग किलोमीटर के संयुक्त क्षेत्र को कवर करते थे. हालांकि, ग्लोबल हीट के बीच, ये इतने सिकुड़ गए कि ये ग्लेशियर के रूप में वर्गीकृत होने के मानदंडों से मेल नहीं खाते
सभी छह ग्लेशियर सिएरा नेवादा डी मेरिडा पर्वत श्रृंखला में स्थित थे, जिनमें से पांच 2011 तक गायब हो गए. हम्बोल्ट ग्लेशियर (Humboldt Glacier ) देश की दूसरी सबसे ऊंची चोटी, पिको हम्बोल्ट (Pico Humboldt) के पास बचा एकमात्र ग्लेशियर था. यह भी अब ग्लेशियर नहीं रहा.

सरकार कर रही यह उम्मीद लेकिन…
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सरकार को जियोथर्मल ब्लैंकेट (GeothermalBlanket) का इस्तेमाल करके ग्लेशियर को उसका पूर्व गौरव दिलाने की उम्मीद है. हालांकि कुछ लोगों का सोचना है कि इसके लिए अब बहुत देर हो गई है.

पर्यावरण एवं विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (यूएनसीईडी) के सलाहकार और यूनिवर्सिटी प्रोफेसर जूलियो सीजर सेंटेनो ने एएफपी को बताया, ‘वेनेजुएला में, अब कोई ग्लेशियर नहीं हैं. हमारे पास जो है वह बर्फ का एक टुकड़ा है जो अपने मूल आकार का 0.4 प्रतिशत है.’

सेंटेनो सहित कई एक्सपर्ट का मानना हैकि हम्बोल्ट ग्लेशियर, (जिसे ला कोरोना के नाम से भी जाना जाता है), के नुकसान भी भरपाई नहीं हो सकती है. यह समुद्र तल से लगभग 4,900 मीटर ऊपर है.

पहले यह अनुमान लगाया गया था कि हम्बोल्ट ग्लेशियर कम से कम एक दशक तक चलेगा, लेकिन यह अपेक्षा से कहीं अधिक तेजी से पिघल गया. अब यह दो हेक्टेयर से भी कम क्षेत्रफल में बचा है.

‘ये देश भी खो देंगे अपने ग्लेशियर’
द गार्जियन के मुताबिक जलवायु विज्ञानी और मौसम इतिहासकार मैक्सिमिलियानो हेरेरा ने कहा, ‘अन्य देशों ने छोटे हिमयुग की समाप्ति के बाद कई दशक पहले अपने ग्लेशियर खो दिए थे, लेकिन वेनेजुएला यकीनन आधुनिक समय में उन्हें खोने वाला पहला देश है.’

हेरार ने कहा, इंडोनेशिया, मैक्सिको और स्लोवेनिया भी अपना ग्लेशियर कवर खो देंगे.

 

pnews
Author: pnews

Leave a Comment