Follow Us

सिंघिया में शिक्षा विभाग के लापरवाही से छोटे छोटे दलित बच्चो को हो रही परेशानी

सिंघिया में शिक्षा विभाग के लापरवाही से छोटे छोटे दलित बच्चो को हो रही परेशानी

 

बिहार के समस्तीपुर जिले के सिंघिया प्रखंड के अंतर्गत नीरपुर भाररिया पंचायत स्थित पतैल ग्राम के दलित बच्चो को पढ़ाई करने में काफी परेशानी हो रही है ये लोग अपने पंचायत से दूर दूसरे पंचायत हरदिया जो इनलोगो के घर से लगभग ढाई से तीन किलो मीटर दूरी पर पढ़ने जाता है ये लोग इतना गरीब है जो की पैर में चप्पल नहीं शरीर पर स्कूल ड्रेस नही और इस कड़ी चिलचिलाती धूप में नंगी पैर पैदल स्कूल जाता है और दोपहर में घर वापस लौटता है जबकि इस गांव में सरकारी जमीन स्कूल बनाने के लिए उपलब्ध है कुछ वर्ष पूर्व इस जगह पर टाटी झोपड़ी बनाकर प्राथमिक विद्यालय पतैल का संचालन भी हुआ था परंतु तत्कालिक शिक्षा विभाग के अधिकारी ने इसे यहां हटाकर हरदिया पंचायत के बहदुरा में टैग कर दिया है जबकि फिलहाल शिक्षा विभाग के आला अधिकारी ने ही एक नियम बना दिया है की किसी भी बच्चे को अपने पंचायत के ही स्कूल में नामांकन करवाना है लेकिन यहां वर्ग 1से 5तक के छात्र को दूसरे पंचायत में पढ़ने के लिए जाना पड़ता है ।यह गांव ऐसा है जहां अभी भी एक भी दलित मैट्रिक पास नही मिलेगा। स्थानीय लोगो ने बताया की चुनाव के समय नेता लोग बड़ी बड़ी बाते बोलकर वादा कर वोट ले लेता है और चुनाव जीतने के बाद कोई देखने तक नही आता विकास का काम कहा से करेगा।इनलोगों का मांग है की इस गांव में ही प्राथमिक विद्यालय के भवन का निर्माण कर बच्चो को पढ़ाई होनी चाहिए

 

pnews
Author: pnews

Leave a Comment