Follow Us

हाथरस वाला अबतक लापता, लेकिन लंदन में फंस गया ये भारतीय ‘ढोंगी’ बाबा; महिलाओं को बनाता था हवस का शिकार

हाथरस वाला अबतक लापता, लेकिन लंदन में फंस गया ये भारतीय ‘ढोंगी’ बाबा; महिलाओं को बनाता था हवस का शिकार

 

हाथरस में बाबा नारायण साकार हरि का सतसंग और प्रवचन खत्म होने के बाद लाशों का ढेर लग गया. हाहाकार मचा तो बाबा का भी पुराना इतिहास और कच्चा चिठ्ठा खुल गया. जानकारी के मुताबिक उनपर 6 मुकदमें है, जिसमें एक केस यौन उत्पीड़न का भी है. हवस, रंगरलियां और यौन शोषण ये कुछ ऐसे शब्द हैं जिनका किसी संत से दूर-दूर तक लेना देना नहीं होता. लेकिन बीते 10 सालों में ऐसे तमाम नामीगिरामी बाबाओं का भंडाफोड़ हुआ जो हवस और अय्याशियों में इस कदर डूबे कि उनकी करतूतें देख लोगों के विश्वास की डोर कमजोर होने लगी है. ऐसे ढोंगी न सिर्फ भारत बल्कि विदेशों तक में भी भारतीय संस्कृति का नाम खराब कर रहे हैं. ऐसे बाबाओं की सूची जो सबसे नया नाम जुड़ा है वो है कालिया बाबा का. कालिया बाबा का असली नाम राजिंद्र कालिया है. उन पर कई महिलाओं ने लंबे समय से यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है

खुद को बताता था भगवान का अवतार अब चढ़ा न्याय के देवता दंडाधिकारी शनि के हत्थे’

‘द सन’ की रिपोर्ट के मुताबिक लंदन में भारत का नाम डुबोने वाला ये ढोंगी बाबा लंबे समय से यूके (UK) यानी ब्रिटेन में ऐश कर रहा था. उसकी करतूतों की गूंज लंदन तक हाईकोर्ट तक पहुंच गई है. उसकी रंगीनियों के किस्से जानकर आपके पैरों तले जमीन खिसक जाएगी. खुद को भगवान का अवतार बताने वाले भारतीय मूल के गुरु राजिंदर काल‍िया पर केस चलने जा रहा है. उस पर कई मह‍िलाओं ने यौन उत्‍पीड़न जैसे कई गंभीर आरोप लगाए हैं. इस ढ़ोंगी से कुछ मह‍िलाओं ने करोड़ों रुपये का हर्जाना मांगा है. कहा जा रहा है कि इसकी गंदी नजर विदेशी महिलाओं पर भी थी. कालिया बाबा पर रेप और उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली कुछ महिलाओं का कहना है कि कालिया उनसे बिना पैसा दिए बेगार कराता था. 4 मह‍िलाओं ने बाबा पर कई साल तक रेप करने का आरोप लगाया है.

स्वयंभू कथित भगवान राजिंदर कालिया पंजाब का रहने वाला है. वो लंदन गया तो था रोजीरोटी कमाने लेकिन वहां उसने धर्म की आड़ में धंधा शुरू कर दिया. वो अपने चमत्‍कारों की मदद से कई तरह की बीमारी ठीक होने का दावा करने लगा तो लोग तेजी से उसके झांसे में आने लगे. उसके छलावे में फिरंगी अंग्रेज और भारतीय दोनों ही मूल के लोग आए. कुछ लोग उसे भगवान का अवतार मानने लगे. उस पर पुलिसवालों को घूस देकर अपने खिलाफ केस बंद कराने और कमजोर करने जैसे आरोप भी लगे हैं. लंदन में काफी कड़े कानून हैं. ऐसे में जिन महिलाओं के यौन शोषण के आरोप में ये बाबा फंसा है, उसमें सजा मिलने पर वो लंबे समय के लिए अंदर जाएगा. कालिया पर आरोप लगाने वाली महिलाओं का कहना है क‍ि बाबा का चोला ओढ़े ये ढोंगी उनका शोषण बचपन से कर रहा था. कालिया पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली सारी महिलाएं भारतीय हैं.

बाबा की सफाई

बाबा के खिलाफ केस चलना शुरू हो चुका है, कोर्ट का नोटिस मिलने के बाद बाबा ने खुद को निर्दोष बताते हुए कानूनी लड़ाई लड़ने की बात की है. एक हादसे में कालिया के पैर में चोट आ गई थी. फिर वो हिमाचल के एक मंदिर पहुंचा और पूरी तरह से ठीक हो गया. 1977 में इंग्लैंड गया. कुछ समय बाद वहां पूजा-पाठ कराने लगा. 1986 में उसने वहां बाबा बालक नाथ का मंदिर बनाया. आरोप है कि उसी की आड़ में वो अपने पाप छिपाने लगा.

ये भी सच है कि भारत को साधु-सन्यासियों, बाबाओं और आध्यात्मिक चेतना से ओतप्रोत संतों की भूमि माना जाता है. लेकिन कुछ लोग इन्हीं संतों के भगवा चोले की आड़ में कुछ लोग ऐसा कर जाते हैं कि लोगों का ऐसे बाबाओं से विश्वास हिल जाता है. करीब 10 साल पहले सितंबर 2014 में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने खुद फर्जी बाबाओं की लिस्ट जारी करके उन्हें ढोंगी करार दिया था.

अखाड़ा परिषद की लिस्ट में बलात्कारी बाबा गुरमीत राम रहीम, आसाराम उर्फ आशुमल शिरमानी, आसाराम का बेटा नारायण साईं, सुखविंदर कौर उर्फ राधे मां, निर्मल बाबा उर्फ निर्मलजीत सिंह समेत कई नाम थे. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की कार्यकारिणी में इन सभी का देशव्यापी बहिष्कार करने की अपील की गई थी. लिस्ट में सचिदानंद गिरी उर्फ सचिन दत्ता, ओम बाबा उर्फ विवेकानंद झा, इच्छाधारी भीमानंद उर्फ शिवमूर्ति द्विवेदी, स्वामी असीमानंद, ऊं नम: शिवाय बाबा, कुश मुनि, बृहस्पति गिरि, वृहस्पति गिरी और मलकान गिरि का भी नाम था.

pnews
Author: pnews

Leave a Comment