केरल

वैलेंटाइन डे पर केरल की महिला ने बचाई पति की जिंदगी

वैलेंटाइन डे पर केरल की महिला ने बचाई पति की जिंदगी

वैलेंटाइन डे पर केरल की महिला ने बचाई पति की जिंदगी

वैलेंटाइन डे पर केरल की एक महिला ने अपने पति की जिंदगी बचाई। रिपोर्ट के मुताबिक, प्रविजा ने अपना लीवर ट्रांसप्लांट करके अपने पति सुबीज को नया जीवन देने में मदद की। मामला केरल के कोट्टायम स्थित मेडिकल कॉलेज अस्पताल का है। डॉक्टरों के मुताबिक, सर्जरी 17 घंटे तक चली। केरल के सरकारी अस्पतालों के इतिहास में यह दूसरी सफल लीवर ट्रांसप्लांट सर्जरी है। जबकि कोट्टायम में पहली। हालांकि अभी सुबीज को वेंटिलेटर पर रखा गया है और उसकी पत्नी प्रविजा अभी भी अपने पति की कुशलता की प्रार्थना कर रही है।

प्यार प्रतीक वैलेंटाइन डे पर लोग एक-दूसरे को त्योहार देकर अपने प्यार का इजहार करते हैं। लेकिन केरल में इस दिन प्रविजा नाम की महिला ने अपना लीवर ट्रांसप्लांट करके अपने पति सुबीज की जिंदगी बचाई। सुबीश और प्रविजा केरल के कुन्नमकुलम के मूल निवासी हैं। सर्जरी सोमवार सुबह 6 बजे शुरू हुई और 17 घंटे तक चली। पहला चरण शाम पांच बजे तक पूरा हो गया था। डॉक्टरों के मुताबिक, सबसे पहले प्रविजा के लीवर का करीब 40 फीसदी हिस्सा निकाला गया।

सुबीश के शरीर पर प्रविजा के लीवर का हिस्सा सिलने की प्रक्रिया शाम साढ़े पांच बजे शुरू हुई। यह एक और पांच घंटे तक चला। एमसीएच अधीक्षक डॉ. टीके जयकुमार के अनुसार, सर्जरी रात 10.30 बजे पूरी हो गई थी और सुबीश को एक घंटे के अवलोकन के बाद वेंटिलेटर पर स्थानांतरित कर दिया गया। अगले 48 घंटे उनके लिए अहम हैं। सुबीश पिछले कुछ सालों से लीवर की बीमारी का इलाज करा रहे थे।

error: Content is protected !!
Close