Follow Us

आम बजट से मध्यमवर्गीय परिवार को राहत की बड़ी उम्मीद थी पर यह बजट आम आदमियों की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाया

 

बिहार सरकार के पूर्व मंत्री सह राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक ने केंद्रीय बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि महंगाई के इस दौर में आम बजट से मध्यमवर्गीय परिवार को राहत की बड़ी उम्मीद थी पर यह बजट आम आदमियों की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाया। बढ़ती महंगाई को थामने में सरकार की बजट पूरी तरह नाकामयाब रहा। खाने पीने के चीजों पर एक भी दीर्घकालीन नीति नहीं दिखी और न ही लोगों का दर्द देख पाए। यह बजट पूंजीपतियों का बजट के रूप में रहा। इस बजट में बिहार के लिए भी कुछ नहीं है l बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग लम्बे वक्त से हो रही है l उम्मीद थी कि केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस पर कुछ कहेंगी, लेकिन दुर्भाग्य से उन्होंने इसे पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया l उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार का ‘किसान विरोधी और गरीब विरोधी’ चेहरा सामने आ गया है। पूर्व मंत्री ने बजट को ‘जुमला’ बताते हुए कहा कि रोजगार के लिए इस बजट में कुछ नहीं है l सरकारी भर्ती के लिए इस बजट में कुछ नहीं है l गरीब के लिए इस बजट में कुछ नहीं है l चुनाव को देखकर यह बजट बनाया गया है l वित्त मंत्री ने भारत के लोगों खासकर गरीबों, कामकाजी तबकों, मजूदरों, किसानों, स्थायी रूप से बंद हुईं औद्योगिक इकाइयों और बेरोजगार हुए लोगों को धोखा दिया है l

pnews
Author: pnews

Leave a Comment